सोमवार, मई 27, 2024
होमराजनीति₹50 हजार इनामी को ढूढ़ने मे UPSTF हो रही परेशान

₹50 हजार इनामी को ढूढ़ने मे UPSTF हो रही परेशान

उमेश पाल मर्डर केस में आरोपी बनाई गई माफिया Atiq Ahmed की पत्नी शाइस्ता परवीन को लेकर यूपी पुलिस के हाथ अभी तक खाली है। वहीं शाइस्ता की तलाश में जगह-जगह दबिश दे रही यूपी पुलिस और एसटीएफ नए खुलासे कर रही है।हाल ही में यूपी पुलिस ने Atiq Ahmed के घर के हेल्पर Rakesh से पूछताछ की थी। Rakesh से पूछताछ में यह निकल कर सामने आया था की 23 फरवरी की रात को शाइस्ता परवीन की मौजूदगी में असद समेत सभी शूटर पार्टी किए थे और 24 फरवरी को उमेश पाल की हत्या हो गई थी।

Asad Ahmed के मोबाइल से मिली जानकारी के मुताबिक उमेश पाल हत्याकांड को ऑपरेशन जानू का नाम दिया गया था। राकेश ने पुलिस को बताया, Atiq का नाबालिग बेटा और वह खुद पार्टी का सामान लेने के लिए मार्केट गए थे। उन्हें Asad ने कहा था कि ऑपरेशन जानू को अंजाम तक पहुंचाना है लिहाजा आज रात घर पर तमाम मेहमानों के साथ पार्टी होगी। उमेश की हत्या के बाद सभी शूटर चकिया में इकट्ठा हुए थे।Umesh Pal शूट आउट के बाद शाइस्ता की तलाश जारी है। उसके मददगारों से लेकर रिश्तेदारों तक पुलिस निगाह रख रही है। शाइस्ता पर 50 हजार का इनाम है और जांच एजेंसियां उसकी तलाश में जगह-जगह दबिश दे रही हैं। पुलिस ने शाइस्ता की फरारी में मदद करने वाले 7 वकीलों और 20 अन्य मददगारों को चिन्हित किया है।

 

पुलिस की मानें तो उसके मददगार उसकी आर्थिक तौर पर भी मदद कर रहे हैं तो वहीं एसटीएफ और प्रयागराज पुलिस की टीमें लगातार छापेमारी कर रही हैं। शाइस्ता पर कुल चार मामले दर्ज हैं जिनमें से धोखाधड़ी से जुड़े तीन मामले 2009 में दर्ज हुए थे।

शाइस्ता पर Umesh Pal हत्याकांड का चौथा केस 25 फरवरी को धूमनगंज थाने में दर्ज हुआ था. शाइस्ता के पिता हारून प्रदेश पुलिस में मुख्य आरक्षी थे। उसके दो भाइयों में से जकी अहमद लखनऊ जेल में बंद है जबकि दूसरा सबी मदरसे में शिक्षक है।

यूपी पुलिस शाइस्ता के इन मददगारों पर अपनी तगड़ी निगाह रख रही है। शाइस्ता के संभावित मददगारों में सुधांशु त्रिपाठी उर्फ बल्ली पंडित, मोहम्मद नफीस, इरशाद उर्फ सोनू, अरशद, सुल्तान अली, बांदा का जफर अहमद खां, डॉ. शैला, असाद, नूर, मोहम्मद मुस्लिम, मोहम्मद राशिद उर्फ नीलू, आवेज अहमद, अशरफ का साला सद्दाम, कासिम शामिल हैं।

वहीं संरक्षण देने वालों में मेरठ निवासी ननद आयशा नूरी, मोहम्मद अनस, आसिफ उर्फ मल्ली शामिल हैं. आर्थिक मददगारों में मोहम्मद मुस्लिम, असलम मंत्री और खालिद जफर शामिल हैं. खालिद जफर अतीक अहमद की बहन का दामाद है और उसके घर भी ईडी की छापेमारी हो चुकी है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments