सोमवार, मई 27, 2024
होमब्रजहसायन और चंदपा थाने को पुनःजिला न्यायालय से संबद्ध करने की मांग

हसायन और चंदपा थाने को पुनःजिला न्यायालय से संबद्ध करने की मांग

जिला एवं सत्र न्यायालय पर कार्य से विरत रहे वकील

हाथरस। जिला एवं सत्र न्यायालय पर बुधवार को दूसरे दिन भी हसायन थाने को लेकर विरोध रहा। सेशन कोर्ट के अधिवक्ता आज भी न्यायिक कार्य विरत रहे और प्रदर्शन किया। इस मौके पर अधिवक्ताओं की मांग थी कि अगर हसायन थाने को जिला एवं सत्र न्यायालय पुनः नहीं जोड़ा गया तो वह अनिश्चितकालीन हड़ताल पर रहेंगे।
सचिव डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन हाथरस की माने तो सोमवार देर शाम को हाईकोर्ट के निर्देशानुसार मुख्यन्यायिक दंडाधिकारी द्वारा हसायन थाने का हाथरस न्यायालय से कार्य हटाकर सिकंदराराऊ लिंक कोर्ट को सौंप दिया। बताते हैं, कि सिकंदराराऊ लिंक कोर्ट के अधिवक्ता पिछले काफी समय से हसायन थाने की मांग कर रहे थे। इसको लेकर वह लगातार हाईकोर्ट में पैरवी कर रहे थे। ऊपर के निर्देशों को देखते हुए सोमवार को हसायन थाने का प्राथमिक कार्य सिकंदराराऊ को सौंप दिया गया, लेकिन जब इस कार्य की जानकारी मंगलवार को सुबह डिस्ट्रिक्ट बार के अधिवक्ताओं को हुई तो इसका विरोध सुरू हो गया और सभी अधिवक्ता इसके विरोध में कार्य से विरत रहे।
बुधवार को भी डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में अधिवक्ताओं ने कार्य नहीं किया और हसायन थाने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। जबकि अध्यक्ष डिस्ट्रिक्ट बार ऐसोसिएशन लक्ष्मीकांत व पूर्व अध्यक्ष सहित कुछ अन्य अधिवक्ता मंगलवार को देर शाम ही इलाहाबाद के लिए निकल गए थे। सूत्रों की माने तो वहां पर उनकी वार्ता का सकारात्मक दौर चला है, लेकिन डिस्ट्रिक्ट बार के अधिवक्ताओं की ताने तो वह हसायन थाने को सिकंदराराऊ जोड़े जाने को लेकर भारी रोष में हैं और पुनः हसायन के विखंडन को समाप्त करने तक अनिश्चित कालीन हड़ताल के मूड़ में दिखाई दे रहे हैं। बुधवार को विरोध प्रदर्शन के दौरान हसायन और चंदपा थाने को लेकर नारेवाजी करते हुए अधिवक्ताओं ने अपना विरोध जताया। जबकि इससे पूर्व एल्डर कमेटी के सदस्यों सहित अधिवक्ताओं ने इसको लेकर जिला एवं सत्र न्यायाधीश से भी मुलाकात अपनी बात रखी।
क्या कहना हैं सचिव डिस्ट्रिक्ट बार का
सचिव डिस्ट्रिक्ट बार ऐसोसिएशन अरविंद वशिष्ठ कहते हैं कि देखिए हाथरस एक छोटा सा जिला है, जिसको एक भी लिंक कोर्ट की आवश्यकता नहीं है। सभी थानों का कार्य हाथरस से ही होना चाहिए। हसायन और चंदपा थाने को लेकर हमारे अध्यक्ष और अन्य अधिवक्ता इलाहाबाद गए हुए हैं। हमें उम्मीद है कि हमारी मांग मानली जाएगी।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments