शनिवार, मई 18, 2024
होमब्रजSikandraRao/Hasayanसंविदा कर्मियों ने पंत चौराहे पर हाई टैंशन लाइन पर चढ़कर सनसनी...

संविदा कर्मियों ने पंत चौराहे पर हाई टैंशन लाइन पर चढ़कर सनसनी फैलाई

सिकन्दराराऊ में नौकरी से निकालने तथा तीन माह से वेतन न मिलने से नाराज थे

सिकन्दराराऊ (ब्रजांचल ब्यूरो)।

तीन माह से वेतन न मिलने तथा नौकरी से निकाले जाने से परेशान सिकन्दराराऊ विजली घर पर कार्य कर रहे तीन संबिदा कर्मियों अनिल कुुमार, गजेन्द्र कुमार, होरी लाल ने अपनी जान को जोखिम में डाल उठाया ऐसा कदम जिसे देखकर हड़कम्प मच गया।


नौकरी से निकालने तथा तीन माह से वेतन न मिलने को लेकर तीन में से दो विद्युत संविदा कर्मियों ने बृहस्पतिवार को बिजली के तारों पर चढ़कर सनसनी फैला दी। वह वेतन देने व नौकरी पर न रखे जाने की स्थिति में कूदकर जान देने की धमकी दे रहे थे । पुलिस व उनके गाँव के लोगों ने उन्हें समझाने की काफी कोशिश की, मगर वह नहीं माने।
जानकारी के अनुसार सूचना मिलने पर पुलिस के साथ नगरपालिका की क्रेन गाड़ी भी मौके पर आ गई। संविदा कर्मी विद्युत विभाग के एस डी ओ को बुलाने की मांग कर रहे थे। ऐसा न होने की स्थिति में तारों से कूदने की धमकी दे रहा था।

उपजिलाधिकारी विजय कुमार शर्मा व कोतवाल प्रवेश राणा व विद्युत विभाग के जे ई


लगभग डेढ़ घंटे के पश्चात उपजिलाधिकारी विजय कुमार शर्मा व कोतवाल प्रवेश राणा व विद्युत विभाग के जे ई ने जैसे-तैसे समझाकर उन्हैं नीचे उतारा।

उपजिलाधिकारी विजय कुमार शर्मा

उपजिलाधिकारी विजय कुमार शर्मा ने बताया कि

संबिदा विद्युत कर्मी पोल पर चढ गये थे। एस डी ओ से बात की गयी उनने आश्वासन दिया गया कि इनका दो दिन में भुगतान करदिया जायेगा। इसके बाद नीचे उतर आये है इनके प्रति सहानभूति रखी जायेगी और विघुत विभाग को निर्देशित किया जा रहा है कि इसमंे जाँच लें यदि उनके साथ कुछ गलत किया गया है तो उसमें सुधार करलें और उनका भुगतान जो भी है उसको समयबद्ध तरीके से कर दें।

जे ई पंकज चौबे

जे ई पंकज चौबे ने बताया कि

अनिल कुुमार, गजेन्द्र कुमार, होरी लाल हमारे यहाँ मार्च तक संविदाकर्मी के पद पर तैनात थे। मार्च तक टैन्डर किसी अन्य कम्पनी का था। अप्रैल से टैन्डर पंजाव की कम्पनी को एलोट हुआ है उस कम्पनी ने 64 गैंगो को हमारे डिवीजन को एलोट किया गया। जिसमें से चार गैंग सिकन्दराराऊ बिजली घर पर मिला था। हटाने से पहले कोई सूचना नहीं था। रखने व हटाने का निर्णय उच्चाधिकारियों द्वारा लिया जाता है। कार्य दक्षता के आधार पर 12 कर्मियों को रखा गया है। इन्हें आश्वासन दिया गया है कि भविष्य में जगह होती है तो इन्हें रख लिया जायेगा।

संविदा कर्मी गजेन्द्र ने तारों से नीचे उतरने के बाद बताया कि तीन महीने से वेतन नही आरहा हमारे साइन करा नहीं रहे। हमसे काम लिया जारहा है। हम क्या करें।
कोतवाली प्रभारी ने उक्त संविदा कर्मियों व उन्हें उकसाने वालों के विरुद्ध कार्यवाही करने की बात कही है।

RELATED ARTICLES

9 टिप्पणी

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments