बुधवार, जुलाई 17, 2024
होमएटावृक्षरोपण के अवसर पर लगाए जाते है पौधे , देखरेख न करने...

वृक्षरोपण के अवसर पर लगाए जाते है पौधे , देखरेख न करने से सूख जाते है पौधे

शासन की ओर से हर वर्ष वन महोत्सव का आयोजन किया जाता है। इस बार भी पूरे उत्साह के साथ इसके आयोजन के साथ ही पौधे पूरे जिले के लिए आवंटन किए गए है ये सभी पौधे नगर निगम, नगर निकाय, और पंचायतों के लिए आवंटन किया गया है। लेकिन ये पौधे लगने के बाद न तो इनकी कोई देख भाल करता है। देखरेख न होने के कारण ये सभी पौधे कुछ ही महीनों में सूख जाते है। 2020 में रारपट्टी में रोपे गए 1500 में से 500 पौधे देख रेख न होने के कारण सूख गए है। पुराने पौधे बचाने में नाकाम वन विभाग फिर से उसी जगह दोबारा नए पौधे लगाएगा। हर वर्ष शासन द्वारा वृहद पौधरोपण किया जाता है पर इसकी देख भाल की जिम्मेदारी किसी को नहीं दी जाती। इसके चलते आधे से ज्यादा पौधे सूख जाते है। जो कुछ बचते है उनको आवारा पशु नष्ट कर देते है। वर्ष 2020 में पूरे जिले में 19 लाख से अधिक पौधे लगाए गए थे।
भदुआ में लगाए गए पौधे भी सूख गए
वर्ष 2021 के जुलाई माह में जिले में करीब 23 लाख पौधे लगाए गए थे। मुख्य कार्यक्रम निधौली कलां के ब्लॉक भदुआ गांव में हुआ था। जहां करीब 15 हजार पौधे रोपे गए थे। इस कार्यक्रम के आयोजन में शासन द्वारा भेजे गए नोडल अधिकारी गोविंद राजू मौजूद रहे थे। यहां पर एक सप्ताह के अंदर आधे से ज्यादा पौधे सूख गए। वही कुछ पौधे मैदान में लगाए बिना ही छोड़ दिए गए।

RELATED ARTICLES

11 टिप्पणी

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments