रविवार, अप्रैल 21, 2024
होमब्रजSikandraRao/Hasayanसिकंदराराऊ के पंत चौराहे से क्यों नहीं रुक पा रहा रोडवेज के रंग...

सिकंदराराऊ के पंत चौराहे से क्यों नहीं रुक पा रहा रोडवेज के रंग से मिलती जुलती अवैध वसों का संचालन

– परिवहन व पुलिस विभाग क्यों नहीं कर रहा कार्यवाही
– मुख्यमंत्री व जिलाधिकारी के निर्देशों को क्यों किया जा रहा नजरअंदाज

– एटा से आनन्दविहार चल रही इस प्रकार की बसें

सिकंदराराऊ ।

हाथरस जनपद की तहसील सिकंदरा राऊ में मुख्यमंत्री व जिलाधिकारी के आदेशों को ताक पर रख सिकंदराराऊ पंत चौराहे से आनन्द विहार दिल्ली तक रोडवेज के कलर में रंगी बसें विना किसी खौफ के हो रहा है संचालन परिवहन व पुलिस विभाग इस पर क्यों रोक नहीं लगा पा रहा यह सोचने का विषय है।

जानकारी के अनुसार रोडवेज के कलर से मिलती जुलती बसों को देखकर अक्सर यात्री इनके झांसे में आकर इन बसों में बैठ जाता है कभी कभी तो इन बस के परिचालकों से यात्रियों का विवाद होते भी देखा गया है। बिना किसी खौफ के मुख्यमंत्री के आदेशों को ताक पर रख विना किसी संरक्षण के सिकंदराराऊ पंत चौराहे से आनन्द विहार दिल्ली तक रोडवेज के कलर में रंगी बसें विना किसी खौफ के किस के संरक्षण में डगेमारी कर रही हैं यह सोचने पर मजबूर अवश्य करता है ।

 

सिकंदराराऊ के पंत चौराहे से अवैध रूप से सवारियों को बिठाया जाता है रविवार को पंत चौराहे पर एक नहीं कई बसें सवारी भरते देखी गयी पंत चौराहे पर तैनात सुरक्षाकर्मियों का भी इस ओर कोई ध्यान न देना चिन्ता का विषय है। अक्सर देखा गया है जब ये बसें पंत चौराहे पर आती है तो ड्यूटी पर तैनात कर्मी इधर उधर हो जाते हैं और सरकारी रोडवेज आने पर जाम लगने की बात कह कर आगे बढ़ा देते हैं।

 

अभी चन्द दिनों पहले ही जिलाधिकारी अर्चना वर्मा ने कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक करते हुए कहा था कि अवैध बस, टैक्सी, अवैध वाहनों का संचालन किसी भी दशा में संचालित नहीं होना चाहिए।
जिलाधिकारी ने कहा था कि जनपद में किसी भी दशा में कही पर भी अवैध टैक्सी स्टैंड संचालित नहीं होना चाहिए। इस प्रकार की गतिविधियों का चिन्हांकन कर सभी एसडीएम व पुलिस क्षेत्राधिकारी की संयुक्त टीम द्वारा कड़ी कार्यवाही की जाए। उनके द्वारा दिये गये निर्देशों का भी कोई असर सिकंदराराऊ के प्रशासन पर नहीं पड़ा है और स्थानीय पंत चौराहे से इस प्रकार की बसों का संचालन किया जा रहा है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments