बुधवार, जुलाई 17, 2024
होमराजनीतिमणिपुर के हिंसाग्रस्त क्षेत्र का दौरा करने पहुंचे राहुल गांधी:

मणिपुर के हिंसाग्रस्त क्षेत्र का दौरा करने पहुंचे राहुल गांधी:

महीने भर से भी ज्यादा समय से मणिपुर में हिंसा और तनाव का सिलसिला लगातार जारी है। अब तक 100 से भी ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। हजारों लोेग बेघर हो गए हैं। इस दौरान घरों से लेकर मंदीर तक आग के हवाले कर दिए गए हैं।

आपको बता दें कि मणिपुर में मैतेई और कुकी के बीच इस हिंसक संघर्ष को रोकने के लिए केंद्र और राज्य सरकार की सुरक्षा ऐजेंसिया तैनात है। मणिपुर की दो स्थानीय जातियों  मैतेई और कुकी समुदाय के बीच हिंसक संघर्ष लगातार जारी है इन दोेनों समुदाय के बीच हिंसा थमने का नाम ही नहीं ले रही है। ऐसे में केंद्र सरकार के साथ सर्वदलीय बैठक के बाद अब कांग्रेस नेता राहुल भी 29 जून यानी गुरूवार को मोहब्बत का पैगाम देने दो दिनों के लिए मणिपुर के दौरे पर रवाना हो गए हैं। इसके साथ ही राहुल गांधी इस यात्रा के दौरान राज्य में बनाए गए राहत शिविरों का भी दौरा करेंगे। राजधानी इंफाल और चूड़ाचांदपुर में नागरिक समाज के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत भी करेंगे। राहुल गांधी दो दिन मणिपुर में रहेंगे और वहां के हालात और लोगों की नाजुक स्थिति समझने की कोशिश भी करेंगे। मिली जानकारी के अनुसार राहुल गांधी के साथ पार्टी महासचिव केसी वेणुगोपाल भी गए हैं।

मणिपुर में क्या है राहुल गांधी का कार्यक्रम?

मणिपुर में 3 मई को शुरू हुई इस हिंसा के बाद इस राज्य के कांग्रेस नेता का पहला दौरा है। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने बताया है कि इंफाल पहुंचने के बाद राहुल गांधी चूड़ाचांदपुर जिले भी जाएंगे। जहां वो राहत शिविरों की दौरा करेंगे। फिर इसके बाद विष्णुपुर जिले में मोइरांग जाएंगे और विस्थापित लोगों से बात करेंगे। उन्होंने बताया है कि राहुल गांधी शुक्रवार को इंफाल में राहत शिविरों का दौरा करेंगे। और उसके बाद कुछ नागरिक संगठनों से बात भी करेंगे। मणिपुर में इस साल मई में जातीय संघर्ष शुरू होने के बाद 300 से अधिक शिविरों में करीब 50,000 लोग रह रहे हैं। दरअसल मैतेइ और कुकी समुदाय के बीच मई की शुरूआत में ही भड़की जातीय हिंसा में 100 से भी अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। जब मणिपुर में अनुसूचित जनजाति के दर्जा देने के लिए मैती समुदाय ने मांग की तो इसके विरोध में 3 मई को पर्वतीय जिलों में आदिवासी एकजुटता के आयोजन के बाद हिंसा शुरू हो गई थी। 

 

 

 

 

 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments