गुरूवार, अप्रैल 25, 2024
होममथुरामंदिर की भूमि पर कब्जा कर आरोपियों ने मजार बना दी

मंदिर की भूमि पर कब्जा कर आरोपियों ने मजार बना दी

मथुरा के थाना कोसीकला में श्री बिहारीजी महाराज सेवा ट्रस्ट की भूमि के दस्तावेजों में हेराफेरी का मामला सामने आया है। इस मामले पर ट्रस्ट ने मुकदमा दर्ज कराया है। इस में 23 लोगों को नामजद किया गया है। आरोपियों में तत्कालीन तहसीलदार, लेखपाल, राजस्व निरीक्षक और ग्राम प्रधान समेत सपा नेता को भी शामिल किया गया है। पुलिस ने मामले की जांच के लिए कमेटी का गठन कर दिया गया है। गठित कमेटी द्वारा जांच शुरू कर दी गई है।
ट्रस्ट का आरोप है कि गांव शाहपुर में 18 वर्ष पूर्व ग्राम प्रधान व सपा नेता ने लेखपाल के साथ मिलकर श्री बिहारीजी महाराज सेवा ट्रस्ट की भूमि पर स्थित मंदिर पर कब्जा कर लिया था और जमीन के कागजातों में हेराफेरी कर के भूमि को कब्रिस्तान की भूमि में दर्शा दिया था। सेवा पूजा के अभाव में खंडहर हुए बिहारीजी मंदिर परिसर में 15 मार्च 2020 की रात ईदू, नासिर, हनीफ, शहीद, अशफाक, रिजवान, सलीम, राजू, जमाल, अख्तार, सुलेमान, अजीज, शकील, इंसाद, जाहिरा, मुस्ताक, जमील, शाहिद समेत 30 लोगों ने मंदिर के सिंहासन को तोड़कर उसे मजार में तब्दील कर दिया।
यहाँ पहले से बने कुएं को भी तहस नहस कर दिया। इसका विरोध गांव के लोगों ने किया तो आरोपियों ने जमीन को कब्रिस्तान का बता दिया। प्रशासनिक अफसरों को दो सितम्बर 2004 में बदले गए खसरा संख्या से संबंधित कागजात दिखा कर गुमराह कर दिया गया था। 15 मार्च 2020 को इन लोगों ने बिहारी जी के क्षतिग्रस्त सिंहासन पर मजार का निर्माण कर इबादत शुरू कर दी। रामअवतार सिंह की तहरीर पर मामले की जांच शुरू की तो स्थिति स्पष्ट हो गई। पुलिस ने अब रामअवतार की तहरीर पर शमशाद, भोला, उमर शेर, शमशेर, राजू, अशफाक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। एसपी ग्रामीण श्रीश चंद ने बताया कि तत्कालीन सपा अध्यक्ष भोला खान पठान, रामवीर प्रधान, लेखपाल, राजस्व निरीक्षक, तहसीलदार समेत 23 लोगों को नामजद किया गया है। आरोपियों को जल्द पकड़ लिया जाएगा।

RELATED ARTICLES

1 टिप्पणी

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments