सोमवार, मई 13, 2024
होमब्रजभारत के संघीय ढांचे को अब खतरा पैदा हो गया है -...

भारत के संघीय ढांचे को अब खतरा पैदा हो गया है – के 0 के0 शर्मा

गाजियाबाद।

भारत के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि किसी मुख्यमंत्री ने भारत के प्रधानमंत्री की आधिकारिक बैठक का बहिष्कार किया। भारत के भविष्य के लिए यह बहुत बड़ी गंभीर घटना है। इससे उन अपुष्ट समाचारों को बल मिलता है कि जो ये बता रहे हैं कि बंगाल में अलग राष्ट्र बनाने की मांग उठेगी। संभवतः ये उसी टूलकिट की शुरुआत है। ममता बनर्जी को अगर देशी और विदेशी ताकतों का प्रबल समर्थन नही होता या एक धर्म के लोगों का प्रबल समर्थन नही होता तो ममता बनर्जी को इतना अहंकार नही होता।

यह कहना है गाजियाबाद के समाजसेवी
सोशल चौकीदार  के०के० शर्मा जी का।
शर्मा  जी कहते हैं कि बंगाल में हो रही लगातार हिंसा भी इस बात का संकेत दे रही है कि कहीं दूसरा कश्मीर तो नही बनने जा रहा और भारत के टुकड़े-टुकड़े करने वाली कुछ ताकतें कहीं अपने सपने को साकार करने का प्रयास तो नही कर रही है।
बहरहाल सख्त कुछ भी हो, भारत के संविधान के तहत भारत के संघीय ढांचे को खतरा पैदा हो गया है। इसका मतलब भारत की अखंडता को खतरा पैदा हो गया है और संप्रभुता को भी खतरा पैदा हो गया है। ऐसे में सारे राष्ट्र को एकजुट होकर इस गंभीर घटना का विरोध करना चाहिए।
कुछ नेताओं का कहना है कि उस बैठक में शुभेन्दु अधिकारी को भी बुलाया गया था इसलिए ममता बनर्जी ने उस बैठक का बहिष्कार किया। अगर शुभेन्दु अधिकारी ने चुनाव में ममता बनर्जी को हराया तो कौन सा पाप कर दिया फिर भी तो ममता बनर्जी पूरे बंगाल की मुख्यमंत्री है। ऐसा नही है कि कुछ की मुख्यमंत्री है और कुछ की नही है।
ममता को भी हार को पचाना सीखना चाहिए और शुभेन्दु अधिकारी वाला तर्क देने वालें राजनीतिक लोगों को भी समझदारी की बात करनी चाहिए।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments