सोमवार, मई 27, 2024
होमराजनीतिदेश के नाम मनीष सिसोदिया ने लिखी चिट्ठी, जेल भेजो या फांसी...

देश के नाम मनीष सिसोदिया ने लिखी चिट्ठी, जेल भेजो या फांसी दे दो

दिल्ली के पूर्व उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने जेल से देश के नाम चिट्ठी लिखी है। जिसमें उन्होंने कविता के माध्यम से शिक्षा के महत्व को उजागर किया है. इस पत्र को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट भी किया है। अपनी इस चिट्ठी में मनीष सिसोदिया ने एक कविता के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए लिखा है कि अगर हर गरीब का बच्चा पढ़ गया तो ‘चौथी पास राजा’ का राजमहल तक हिल जाएगा। इससे पहले भी मनीष सिसोदिया जेल से पत्र लिख चुके हैं। इन पत्रों में भी उन्होंने देश की तरक्की के लिए शिक्षा पर जोर देने की बात कही थी।

दिल्ली पूर्व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने जेल से देश के नाम लिखी चिट्ठी में शिक्षा के महत्व को दर्शाता है. उन्होंने कविता के माध्यम से शिक्षा के महत्व को बताते हुए लिखा है, “अगर हर गरीब को मिली किताब तो नफरत की आंधी कौन फैलाएगा, सबके हाथों को मिल गया काम, तो सड़कों पर तलवारें कौन लहराएगा, अगर पढ़ गया, हर गरीब का बच्चा तो चौथी पास राजा का राजमहल हिल जाएगा।

 

 

 

व्हाट्सएप का विश्वविद्यालय बंद हो जाएगा

सिसोदिया ने आगे कविता में लिखा कि अगर हर किसी को मिल गई अच्छी शिक्षा और समझ तो इनका व्हाट्सएप का विश्वविद्यालय बंद हो जाएगा। पढ़े-लिखे और समझदारी की बुनियाद पर खड़े समाज को कोई कैसे कौमी नफरत के माया जाल में फंसा सकता है? अगर पढ़ गया एक-एक गरीब का बच्चा तो चौथी पास राजा का राजमहल हिल जाएगा।

उन्होंने आगे लिखा है, “अगर पढ़ गया समाज का हर बच्चा तो तुम्हारी चालाकियों और कुनितियों पर सवाल उठाएगा। अगर गरीब को मिल गई कलम की ताकत, तो वो अपने ‘मन की बात’ सुनाएगा। अगर पढ़ गया एक-एक गरीब का बच्चा तो चौथी पास राजा का राजमहल हिल जाएगा।

“जेल भेजो या फांसी दे दो”

चिट्ठी के अंत में मनीष सिसोदिया ने दिल्ली और पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार के काम की तारीफ में लिखा कि दिल्ली और पंजाब के स्कूलों में हो रहा शंखनाद पूरे भारत में अच्छी शिक्षा की अलख जगाएगा। जेल भेजो या फांसी दे दो, ये कारवां रुक नहीं पाएगा। अगर पढ़ गया हर गरीब का बच्चा, राजमहल तुम्हारा हिल जाएगा

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments