रविवार, जून 23, 2024
होमराजनीतिछिंदवाड़ा में बड़ी मात देने के लिए बीजेपी ने अभी से ही...

छिंदवाड़ा में बड़ी मात देने के लिए बीजेपी ने अभी से ही अपनी पूरी ताकत लगाना शुरू कर दी है

PCC चीफ और पूर्व CM कमलनाथ को उनके ही गढ़ छिंदवाड़ा में बड़ी मात देने के लिए बीजेपी ने अभी से ही अपनी पूरी ताकत लगाना शुरू कर दी है. एक के बाद एक केंद्रीय मंत्री, प्रदेश मंत्री, BJP अध्यक्ष सहित तमाम बड़े नेता लगातार छिंदवाड़ा के दौरे और जन सभाएं कर रहे हैं. आपको बता दें, 25 मार्च को छिंदवाड़ा में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की सभा भी होनी है. BJP से जुड़े सूत्रों के अनुसार 3 महीने पहले ही कमलनाथ को उनके ही गढ़ में घेरने की भी तैयारी की गई थी. बीजेपी की इस आक्रामकता को देखते हुए कमलनाथ ने अब इसे उनकी नहीं बल्कि छिंदवाड़ा की जनता की लड़ाई करार दे दिया है.

 

कमलनाथ ने छिंदवाड़ा में कहा कि भाजपा कमलनाथ से नही लड़ रही बल्कि अब वह छिंदवाड़ा की जनता से लड़ रही है. यह चुनाव अब छिंदवाड़ा की जनता और भाजपा के बीच मे है. मै यहां राजनीति नही करता. छिंदवाड़ा में मैने समाजसेवी के रूप में जीवन समर्पित किया है. इसलिए बीजेपी को जिसे भी छिंदवाड़ा में बुलाना है, बुला लें. छिंदवाड़ा की जनता उन सभी को चुनाव में अच्छे से जवाब देगी.

 

आपको बता दें, तीन दिवसीय दौरे पर छिंदवाड़ा पहुंचे कमलनाथ ने सीएम शिवराज सिंह चौहान के बयानों पर पलटवार करते हुए कहा कि कौन किसको गाडे़गा, मैं इन सब चीजों में नहीं पड़ना चाहता. लेकिन मैं जरूर गाडूंगा महंगाई को, भ्र्ष्टाचार को, बेरोजगारी को. वर्तमान में मैं नरसिंहपुर से आया तो मैंने देखा कि किसानों को बीज नहीं मिल रहे हैं.  मालवा-निमाड़ में लहसुन एक रुपए में बिका. प्याज लो या टमाटर सब कम दाम में बिक रहे हैं. किसानों पर मौसम की मार पड़ रही है और सीएम शिवराज सिंह चौहान अभी तक सर्वे कराने में ही लगे हैं.

मुँह चलाने और प्रदेश चलाने में अंतर है, कमलनाथ ने कहा अमित शाह के छिंदवाड़ा आने पर भाजपा द्वारा ढाई लाख जनता को जुटाने पर कमलनाथ ने कहा कि जितनों को जुटाना है, जुटा लें. मुझे छिंदवाड़ा और मध्यप्रदेश की जनता पर भरोसा है. शिवराज मुँह चलाना जानते हैं. मंदसौर-नीमच में पूछिए मेरी जब सरकार थी, हफ्ते भर में मुआवजा किसानों को दिया था. मुँह चलाने और प्रदेश चलाने में बहुत अंतर है.

अब 25 मार्च को अमित शाह की एक बड़ी जनसभा होनी है. यानी बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व से लेकर प्रदेश के शीर्ष नेतृत्व तक कमलनाथ को उनके ही गढ़ में घेरने की पूरी planning के तहत काम कर रहे हैं. इधर कमलनाथ भी इन सभी से मुकाबले के लिए खुद को तैयार बता रहे हैं.

 

 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments