गुरूवार, अप्रैल 25, 2024
होमब्रजअब बीमार होने पर पर्स नहीं “गोल्डेन कार्ड” तलाशता है...

अब बीमार होने पर पर्स नहीं “गोल्डेन कार्ड” तलाशता है…

– मील का पत्थर  साबित हो रहीं आयुष्मान व जन औषधि योजनाएं
– समय से गोल्डन कार्ड बनवाएं, योजनाओं का लाभ उठाएँ

हाथरस, 06 अगस्त।

 “गोल्डेन कार्ड: प्रधानमंत्री की जनस्वास्थ्य को लेकर शुरू की गईं आयुष्मान भारत और जनऔषधि केंद्र जैसी महत्वाकांक्षी योजनाएँ रंग ला रही हैं। अब बीमार होने पर व्यक्ति पर्स नहीं तलाशता बल्कि प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत जन आरोग्य योजना के तहत बनाए गए गोल्डेन कार्ड को खोजता है। सरकार की यह योजना गरीबों और जरूरत मंदों के लिए मील का पत्थर साबित हो रही है।

एबीजी अस्पताल में आयुष्मान भारत योजना के तहत इलाज करा रहीं शीला देवी ने बताया कि इस योजना से वह बहुत संतुष्ट है, उनका इलाज मुफ्त में हुआ। वहीं, सांस की समस्या से परेशान लाभार्थी महेश चंद्र भी योजना से संतुष्ट हैं। इसी क्रम में जन औषधि केंद्र से दवा ले रहे लोग भी सस्ती दवा पाकर खुश नजर आए । सोहवीर सिंह ने बताया कि यहां बाजार से सस्ती दवा मिल रही है। जन औषधि केंद्र पर मौजूद प्रवीण सिंह ने बताया कि यहां लगभग सभी प्रकार की दवाएं उपलब्ध हैं। हर रोज करीब 150-200 लोग यहां से दवा  खरीदते हैं।

आयुष्मान योजना के डिस्ट्रिक्ट प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर डॉ. प्रभात सिंह ने बताया कि जिले में दो सरकारी व तीन प्राइवेट अस्पतालों में योजना के तहत इलाज किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इसमें अच्छे से अच्छा इलाज किया जा रहा है। जिले में प्रधनमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत 58, 848 लाभार्थी हैं, जिनमें से 25,743 ने गोल्डन कार्ड बनवा लिया है। अब तक करीब 620 लाभार्थी जनपद में ही योजना का लाभ ले चुके हैं तथा कुछ लाभार्थियों ने दूसरे जनपदों में भी योजना के तहत इलाज कराया है। इस प्रकार जिले के 1,063 लोग लाभ ले चुके है। उन्होंने लाभार्थियों से अपील की है कि वह समय से अपने गोल्डन कार्ड बनवा लें जिससे उन्हें इलाज के समय दिक्कत का सामना न करना पड़े।

मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. बृजेश राठौर ने बताया कि जिले की जनता प्रधानमंत्री  की दोनों ही महत्वाकांक्षी योजनाओं का लाभ ले रही है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments