सोमवार, मई 27, 2024
होममथुराअनाज मंडी में थोक व्यापारी और कमीशन एजेंट भिड़े, किसान हो रहे...

अनाज मंडी में थोक व्यापारी और कमीशन एजेंट भिड़े, किसान हो रहे परेशान

मथुरा की अनाज मंडी में थोक व्यापारी और कमीशन एजेंट आपस में भिड़ गए जिस के चलते अनाज मंडी को बंद करना पड़ा। सभी थोक व्यापारियों ने हड़ताल करने का ऐलान कर दिया है। सभी थोक व्यापारी मथुरा से हरिद्वार चले गए हैं। करीब दो दिन से मंडी बंद होने के वजह से मंडी सचिव ने सभी व्यापारियों से बात की है। व्यापारियों ने सचिव को भरोसा दिलाया है कि वे जल्द ही मंडी खोलेंगे। उधर, मंडी बंद होने की वजह से कमीशन एजेंट के पास हजारों क्विंटल किसानों का अनाज मंडी में जमा हो गया है।

अनाज मंडी में करीब 22 अनाज की खरीद करने वाले थोक व्यापारी (खरीदार) हैं। इन सभी व्यापारियों को करीब 500 कमीशन एजेंट किसानों से माल लेकर बेचते हैं। कमीशन एजेंट के साथ थोक व्यापारियों से रेट को लेकर आपसी विवाद चलता रहता है। रविवार को एक थोक व्यापारी का कमीशन एजेंट के साथ विवाद हो गया। आपस में मामला मारपीट तक पहुंच गया। इस मारपीट की घटना के बाद थोक व्यापारियों ने हड़ताल कर दी। वह एकजुट होकर मथुरा से हरिद्वार चले गए। थोक व्यापारियों के हरिद्वार जाने से मंडी में अनाज की खरीद रुक गई। किसान अनाज मंडी में आकर लौटने लगे है।

कमीशन एजेंटों पर किसानों को दबाव बढ़ता जा रहा है। वह परेशान हो गए। अनाज मंडी के बंद होने की जानकारी मंडी सचिव राजेंद्र सिंह को हुई। उन्होंने थोक व्यापारियों से बातचीत की, लेकिन दो दिन होने के बाद भी मंडी के अनाज के थोक व्यापारी हरिद्वार से नहीं लौटे। सचिव ने बताया कि उन्होंने थोक व्यापारियों से बातचीत की है।

आपसी विवाद की वजह से किसानों को नुकसान का सामना करना पड़ रहा हैं। आपसी विवाद की सूचना थोक व्यापारियों ने मंडी सचिव तक को नहीं दी और चुपचाप हड़ताल पर चले गए। मंडी सचिव ने बताया कि यह एक सार्वजनिक उपक्रम है और यहां पर यदि कोई हड़ताल भी करनी थी तो उन्हें इसकी सूचना अवश्य देनी चाहिए थी।

 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments